मैं वह चाँद Main Woh Chaand Lyrics in Hindi from Teraa Surroor (2016)

Main Woh Chaand Lyrics in Hindi. मैं वह चाँद song from Teraa Surroor 2016. It stars Himesh Reshammiya, Farah Karimi, Naseeruddin Shah, Monica Dogra, Kabir Bedi, Shernaz Patel, Shekhar Kapur. Singer of Main Woh Chaand is Darshan Raval. Lyrics are written by Sameer Anjaan Music is given by Himesh Reshammiya
Song Name : Main Woh Chaand
Album / Movie : Teraa Surroor 2016
Singer : Darshan Raval
Music Label : T-Series
Cast : Himesh Reshammiya, Farah Karimi, Naseeruddin Shah, Monica Dogra, Kabir Bedi, Shernaz Patel, Shekhar Kapur
Lyrics in English:

Ashqon mein hai yaadein teri
Bheegi bheegi raatein meri
Gum hai kahin raahein meri

Main tere ishq mein gumrah hua
Main tere ishq mein gumrah hua
Main woh chaand jiska
Tere bin na koi aasmaan
Main woh chaand jiska
Tere bin na koi aasmaan

Meri duaaon mein hai mannat teri
Tujhko padha hai tu hai aayat meri
Jannat tu hi hai tu hona na door
Azmat hai tujhse tu hi hai mera noor

Dil ki salaakhein qaid rakhe hai
Jaise parinda koi, haan koi…

Ashqon mein hai yaadein teri
Bheegi bheegi raatein meri
Gum hai kahin raahein meri

Main tere ishq mein gumrah hua
Main tere ishq mein gumrah hua
Main wo chand jiska
Tere bin na koi aasmaan
Main wo chand jiska
Tere bin na koi aasmaan

Veeraniyon ka dil mein lava jale
Angaaron ke saaye mein har pal khale
Furkat ka lamha phir se aaye na ab
Iss se rihaai de de aye mere rabb

Dil ke taar bandhe hain aise
Jaise bandhi bediyaan, bediyaan..

Ashqon mein hai yaadein teri
Bheegi bheegi raatein meri
Gum hai kahin raahein meri

Main tere ishq mein gumrah hua
Main tere ishq mein gumrah hua
Main wo chand jiska
Tere bin na koi aasmaan
Main wo chand jiska
Tere bin na koi aasmaan.

Local Language:

अश्क़ों में है यादें तेरी
भीगी भीगी रातें मेरी
गम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ
मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ
मैं वह चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान
मैं वह चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान

मेरी दुआओं में है मन्नत तेरी
तुझको पढ़ा है तू है आयत मेरी
जन्नत तू ही है तू होना न दूर
अज़मत है तुझसे तू ही है मेरा नूर

दिल की सलाखें क़ैद रखे है
जैसे परिंदा कोई

अश्क़ों में है यादें तेरी
भीगी भीगी रातें मेरी
गम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ

मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ
मैं वो चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान
मैं वो चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान

वीरानियों का दिल में लावा जले
अंगारों के साये में हर पल ख्याल
फुरकत का लम्हा फिर से आये न अब
इस से रिहाई दे दे ए मेरे रब्ब

दिल के तार बंधे हैं ऐसे
जैसे बाँधी बेड़ियाँ

अश्क़ों में है यादें तेरी
भीगी भीगी रातें मेरी
गम है कहीं राहें मेरी

मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ
मैं तेरे इश्क़ में गुमराह हुआ
मैं वो चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान
मैं वो चाँद जिसका
तेरे बिन न कोई आसमान.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *