ऐसा क्यों होता है Aisa Kyun Hota Hai Lyrics in Hindi from Ishq Vishk (2003)

ऐसा क्यों होता है Aisa Kyun Hota Hai Lyrics in Hindi from Ishq Vishk (2003)
Song Aisa Kyun Hota Hai
Movie Ishq Vishk 2003
Star Cast Shahid Kapoor, Amrita Rao, Shenaz Treasurywala
Singer Alka Yagnik
Music Director Anu Malik
Lyrics by Sameer
Music Label Tips Music
Lyrics in English:

Mere dil ko ye kya ho gaya
Main na jaanu kahan kho gaya
Kyun lage din mein bhi raat
Hai dhoop mein jaise barsaat hai
Aisa kyun hota hai baar baar
Kya isko hi kahte hain pyaar
Mere dil ko ye kya ho gaya
Main na jaanu kahan kho gaya
Kyun lage din mein bhi raat hai
Dhoop mein jaise barsaat hai
Aisa kyun hota hai baar baar
Kya isko hi kahte hain pyaar

Ho sapne naye sajne lage
Duniyaa nayi lagne lagi
Pahle kabhi aisa na huaa
Kya pyaas ye jagne lagi
Madhoshiyon kaa hai samaa
Wo jhukne lagaa aasmaan
Khaamoshi bani hai zubaan
Chhede hai koi daastan
Dhadkan pe bhi
Chhaya hai khumaar
Aisa kyun hota hai baar baar

Ho aaine mein jo dekhaa tujhko
Aayi sharam aankhen jhuki
Dhak se meraa dhadkaa
Jiyaa ek pal ko ye saansen ruki
Ab choodi sataane lagi
Raaton ko jagaane lagi
Main yunhi machalne lagi
Kuchh kuchh badlane lagi
Jaane rahti hun kyun beqraar
Aisa kyun hota hai baar baar
Mere dil ko ye kya ho main
Na jaanu kahan kho gaya
Kyun lage din mein bhi raat
Hai dhoop mein jaise barsaat hai
Aisa kyun hota hai baar baar
Kya isko hi kahte hain pyaar
Aisa kyun hota hai baar baar
Kya isko hi kahte hain pyaar.

Local Language:

मेरे दिल को ये क्या हो गया
मैं न जानू कहाँ खो गया
क्यों लगे दिन में भी रात
है धुप में जैसे बरसात है
ऐसा क्यों होता है बार बार
क्या इसको ही कहते हैं प्यार
मेरे दिल को ये क्या हो गया
मैं न जानू कहाँ खो गया
क्यों लगे दिन में भी रात है
धुप में जैसे बरसात है
ऐसा क्यों होता है बार बार
क्या इसको ही कहते हैं प्यार

हो सपने नए सजने लगे
दुनिया नयी लगने लगी
पहले कभी ऐसा न हुआ
क्या प्यास ये जागने लगी
मदहोशियों का है समा
वो झुकने लगा आसमान
खामोशी बनी है जुबां
छेड़े है कोई दास्ताँ
धड़कन पे भी
छाया है ख़ुमार
ऐसा क्यों होता है बार बार

हो आईने में जो देखा तुझको
आई शर्म आँखें झुकी
धक् से मेरा धड़का
जिया एक पल को ये साँसें रुकी
अब चूड़ी सताने लगी
रातों को जागने लगी
मैं यूंही मचलने लगी
कुछ कुछ बदलने लगी
जाने रह्ती हुन क्यूँ बेक़रार
ऐसा क्यों होता है बार बार
मेरे दिल को ये क्या हो मैं
न जानु कहाँ खो गया
क्यों लगे दिन में भी रात
है धुप में जैसे बरसात है
ऐसा क्यों होता है बार बार
क्या इसको ही कहते हैं प्यार
ऐसा क्यों होता है बार बार
क्या इसको ही कहते हैं प्यार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *